27 साल बाद इस दिवाली पड़ रहा है ये महासंयोग, जानिये कैसे उठाएं इसका लाभ

0
206
Diwali

इस दिवाली 27 साल बाद ऐसा महासंयोग बन रहा है जोकि आपकी किस्मत बदल सकता है. 27 साल बाद इस दिवाली पर गुरु चित्रा योग का महासंयोग बन रहा है, साथ ही यह दिवाली इसलिए भी खास होगी क्योंकि इस दिन 7 चौघड़िए, एक अभीजित मुहूर्त और दो लग्न मिलाकर कुल 10 शुभ मुहूर्त बन रहे हैं. इन शुभ संयोगों में की गई लक्ष्मी पूजा और खरीदारी सौभाग्य प्राप्ति की दृष्टि से बेहद लाभकारी सिद्ध होगी।आइए जानते हैं कि किस तरह से हम इस महासंयोग का लाभ प्राप्त कर सकते हैं।

 

हर साल कार्तिक मास की अमावस्या के दिन दिवाली मनाई जाती है और इस बार दीवाली में बहुत ही शुभ संयोग बन रहा है। इस बार दीवाली 19 अक्टूबर, गुरुवार के दिन पड़ रही है और नक्षत्र मेखला की गणना के अनुसार 27 साल बाद गुरू चित्रा को शुभ संयोग बन रहा हैं जो कि इससे पहले ये योग 1990 में बना था और दुबारा ऐसा संयोग आगे 4 साल बाद यानी 2021 में बनेगा। दरअसल गुरुवार का दिन और चित्रा नक्षत्र इन तीनों के एक साथ होने का योग बहुत कम बनता है और इस बार यह स्थिति बन रही है।

diwali

 

चूकि इस बार दिवाली गुरूवार को है और ज्योतिष में गुरु को सोना, भूमि, कृषि आदि का कारक ग्रह माना जाता है..इसलिए अगर आप इनसे सम्बन्धित कोई भी खरीदारी आपके लिए लाभदायक सिद्ध होगी। वहीं चित्रा नक्षत्र चांदी, वस्त्र, वाहन और इलेक्ट्रॉनिक चीजों के लिए खास व शुक्र की राशि वाला यह नक्षत्र समृद्धि का कारक है। साथ ही गुरु, शुक्र के साथ नक्षत्र का संचार लाभप्रद रहेगा और अमावस्या दर्श होने से इस योग को बल मिलेगा।

 

ज्योतिषाचार्यों की माने तो ..इस बार दिवाली से पहले 13 अक्टूबर को पुष्य नक्षत्र में और इसके बाद 17 अक्टूबर को धनतेरस पर भी लोगों को जमकर खरीदारी करने का मौका मिलेगा.. लेकिन ज्योतिष के मान से गुरु चित्रा योग में पूजा व खरीदी विशेष ही नहीं बल्कि दीर्घ कालिक लाभ देने वाली मानी जाती है.. इसलिए आप इस योग का लाभ लेना ना भूलें । आपको बता दें कि 24 घण्टे तक इस संयोग का लाभ ले सकते हैं ..19 अक्टूबर की सुबह 07.25 से चित्रा नक्षत्र लगने के साथ गुरु चित्रा योग शुरू हो जाएगा जो कि अगले 24 घंटे तक रहेगा।

diwali

 

दिवाली की शाम प्रदोषकाल में महालक्ष्मी की पूजा करना श्रेष्ठ माना जाता है.. इस बार शाम 05.54 से रात 08.26 तक प्रदोषकाल रहेगा. इस दौरान लोग धन, सुख-समृद्धि की कामना से लक्ष्मी, गणेश व कुबेर का पूजन कर सेकेंगे। साथ ही इस बार एक और खास बात यह भी है कि दिवाली पर लक्ष्मी की विशेष पूजा के लिए 12 साल बाद चतुर्ग्रही योग का संयोग भी बन रहा है जो कि रात 8 बजे के बाद शुरू होगा। इसमें सूर्य, चंद्र, बुध और गुरु चारों ग्रह तुला राशि में होंगे। इस शुभ योग में लक्ष्मी पूजा विशेष लाभकारी है जिससे अखण्ड सौभाग्य की प्राप्ति होगी।

इस दिवाली के 10 शुभ मुहूर्त

 

आप इन चौघड़ियों, मुहूर्त व लग्न में सुविधा अनुसार बाजार से खरीदारी, घर-प्रतिष्ठानों में लक्ष्मी पूजा कर सकते हैं।

शुभ- सुबह 06.30 से 8 तक

चर- सुबह 11 से दोपहर 12.30 तक लाभ- दोपहर 12.30 से 2 तक

अमृत- दोपहर 02 से 03.30 तक

शुभ- शाम 05 से 06.30 तक

अमृत- शाम 06.30 से रात 8 तक

चर- रात 08 से रात 09.90 तक

अभीजीत मुहूर्त- दिन के 11 से 12.30 तक

वृषभ लग्न- शाम 07.36 से 09.27 तक

सिंह लग्न- रात 02.04 से 04.10 तक

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here