इस्लामाबाद
पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी इन दिनों सुर्खियों में हैं। सऊदी राजदूत के साथ मुलाकात के दौरान ली गई कुरैशी की एक फोटो विवादों में आ गई है। सऊदी राजदूत के सामने बैठने के तरीके को लेकर पाकिस्तानी मंत्री की सोशल मीडिया पर जमकर आलोचना हो रही है। तस्वीर में वह राजदूत के सामने पैर पर पैर चढ़ाकर बैठे हैं, जिसमें वह जूते का तलवा राजदूत की तरफ किए हुए हैं। उनके इस अपमानजनक रवैये पर पाकिस्तानी मीडिया ने भी अपने मंत्री का मजाक उड़ाया है।

ट्विटर पर एक वीडियो शेयर किया गया है जिसमें एक पाकिस्तानी चैनल को शाह महमूद कुरैशी का मजाक उड़ाते देखा जा सकता है। चैनल के कार्यक्रम में एक ‘स्पूफ’ यानी नकली शाह महमूद कुरैशी से एंकर सवाल कर रहे हैं। एंकर पूछते हैं, ‘आपके बैठने के अंदाज से लग रहा है जैसे आप कर्ज देने गए हैं और वो कर्ज लेने आए हैं।’ इस पर कुरैशी की नकल करता शख्स कहता है, ‘यह हमारे विरोधियों की हमारे खिलाफ साजिश है। हमारी तारीफ होनी चाहिए कि कर्जा लेने के बावजूद हमने अपनी अकड़ से समझौता नहीं किया।’

पाकिस्तानी चैनल ने उड़ाया कुरैशी का मजाक
एंकर सवाल करता है, ‘कुछ लोग ये भी कह रहे हैं कि आपने जूता उनकी तरफ इसलिए किया था क्योंकि आपका तलवा घिसा हुआ था और आप उनको अपनी गरीबी दिखा रहे थे।’ इस पर नकली कुरैशी कहते हैं, ‘यह अंदर की बात है।’ यह मजाकिया कार्यक्रम सिर्फ मनोरंजन का हिस्सा नहीं है बल्कि पाकिस्तान सरकार पर एक तंज है। सऊदी राजदूत के साथ कुरैशी का व्यवहार सऊदी लोगों को बहुत नागवार गुजरा है। बताया जा रहा है कि इस बैठक में दोनों ने इलाके के ताजा हालात पर चर्चा की है और आपसी रिश्‍तों की समीक्षा की है।

सऊदी जनता ने जताई नाराजगी
सऊदी जनता ने इस बैठक को अलग तरीके से लिया। एक यूजर ने कॉमेंट किया, ‘पाकिस्‍तान के विदेश मंत्री ने सऊदी राजदूत का बहुत ही गलत तरीके से स्‍वागत किया है। पाकिस्‍तानी विदेश मंत्री के सऊदी राजदूत का इस तरह से स्‍वागत करने का अगर कोई बड़ा कारण (मेडिकल) नहीं है तो यह राजनयिक प्रोटोकॉल के मूलभूत सिद्धांतों के प्रति बेशर्मी, मूर्खता और अज्ञानता की हद है।’ ट्विटर यूजर ने कहा, ‘मैं अगर सऊदी राजदूत के साथ मैं होता तो मैं उठकर चला जाता।’

कुरैशी के व्यवहार को बताया ‘मूर्खतापूर्ण’
एक और यूजर ने लिखा, ‘यह पाकिस्‍तानी विदेश मंत्री का सऊदी अरब के राजदूत के प्रति अशिष्‍ट, मूर्खतापूर्ण और गैर राजनयिक व्‍यवहार है। सऊदी राजदूत ने जिस तरह से इस अपमान को चुपचाप सह लिया, उससे मैं उनका प्रशंसक हो गया हूं।’ पाकिस्‍तान और सऊदी अरब के बीच गहरे राजनयिक और सैन्‍य संबंध हैं लेकिन हालिया वर्षों में पाकिस्‍तान के मूर्खतापूर्ण व्‍यवहार की वजह से खराब हो गए हैं।

कुरैशी ने सऊदी अरब को दे डाली थी बड़ी धमकी
इससे पहले चीन और तुर्की के इशारे पर नाच रहे पाकिस्‍तान ने कश्‍मीर को लेकर अब अपने पुराने ‘मित्र’ सऊदी अरब को बड़ी धमकी दे डाली थी। पाकिस्‍तान की नापाक साजिश में साथ नहीं देने पर कुंठा में आए पाकिस्‍तानी विदेश मंत्री कुरैशी ने सऊदी अरब के नेतृत्‍व वाले ऑर्गनाइजेशन ऑफ इस्‍लामिक कंट्रीज (OIC) को धमकाना शुरू कर दिया था। उन्‍होंने कहा कि ओआईसी कश्‍मीर पर अपने विदेश मंत्रियों की परिषद की बैठक बुलाने में हीलाहवाली बंद करे।

कुरैशी ने कहा था, ‘मैं एक बार फिर से पूरे सम्‍मान के साथ ओआईसी से कहना चाहता हूं कि विदेश मंत्रियों की परिषद की बैठक हमारी अपेक्षा है। यदि आप इसे बुला नहीं सकते हैं तो मैं प्रधानमंत्री इमरान खान से यह कहने के लिए बाध्‍य हो जाऊंगा कि वह ऐसे इस्‍लामिक देशों की बैठक बुलाएं जो कश्‍मीर के मुद्दे पर हमारे साथ खड़े होने के लिए तैयार हैं।’ एक अन्‍य सवाल के जवाब में कुरैशी ने कहा कि पाकिस्‍तान और ज्‍यादा इंतजार नहीं कर सकता है।