कोर्ट में ढोंगी बाबा का वकील बोला,’नारी नरक का द्वार’, जज ने दिखाया बाहर का रास्ता

0
180
Virendra Dev Dixit, Aadhyatmik Vishwavidyalaya, CBI, Look Out Circular

नई दिल्लीः सीबीआई ने दिल्ली हाईकोर्ट को बताया कि राष्ट्रीय राजधानी के एक आश्रम में महिलाओं और लड़कियों को कथित रूप से कैद रखने वाले वीरेंद्र देव दीक्षित के खिलाफ लुक आउट सर्कुलर (एलओसी) जारी किया गया है। कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश गीता मित्तल और न्यायमूर्ति सी.हरि शंकर ने पूछा था कि क्या दीक्षित अपने आश्रम और अपने खिलाफ दर्ज शिकायत पर चल रही जांच में शामिल हुआ या नहीं, जिसके बाद सीबीआई ने अदालत को उक्त जानकारी दी।

आश्रम के वकील पर भड़के जज
जब अदालत ने पूछा कि अगर आश्रम ‘आध्यात्मिक’ स्थान है तो वहां लड़कियों और महिलाओं को बंद करके क्यों रखा गया पुरुषों और लड़कों को क्यों नहीं। इस पर आश्रम के वकील ने कहा , ‘‘शंकराचार्य के मुताबिक नारी नरक का द्वार है।’’ आगे वह कुछ कह पाते, पीठ ने कहा कि वह ऐसी दलीलों के लिए उनके खिलाफ अदालत की अवमानना की कार्यवाही करेगी और उनके साथ ही सबको अदालती कक्ष से चले जाने को कहा।

वकील बोले, आश्रम को खुद ईश्वर चलाते हैं
सुनवाई के दौरान अदालत ने यह भी कहा कि विश्वविद्यालय अनुदान आयोग अधिनियम की परिभाषा के मुताबिक आश्रम विश्वविद्यालय नहीं है और लिहाजा यह अपने आप को विश्वविद्यालय के तौर पर पेश नहीं कर सकता है। अदालत ने टिप्पणी की कि उत्तर दिल्ली के रोहिणी इलाके में स्थित आध्यात्मिक केंद्र को विश्वविद्यालय का कोई कानूनी दर्जा प्राप्त नहीं था। यह न तो पंजीकृत सोसाइटी है और न ही कंपनी कानून के तहत कारपोरेट संस्था है। बहरहाल, पीठ ने आश्रम द्वारा विश्वविद्यालय का नाम इस्तेमाल करने पर रोक लगाने का आदेश नहीं दिया क्योंकि आश्रम के वकील ने कहा कि आदेश देने से पहले उन्हें सुना जाए। वकील ने बताया कि आश्रम विश्वविद्यालय अनुदान आयोग के अधिकार क्षेत्र मे नहीं है क्योंकि इसे ईश्वर अपने अवतार के माध्यम से चला रहे हैं और ईश्वर खुद ही शिक्षा देते हैं।

8 फरवरी को होगी सुनवाई
अदालत इस मामले में अब आठ फरवरी को आगे सुनवाई करेगी। अदालत ने रोहिणी आश्रम और दिल्ली में इसकी अन्य शाखाओं को निरीक्षण करने के लिए एक पैनल नियुक्त किया था जिसमें दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल, वकील नंदिता राव और अजय शर्मा शामिल थे। पैनल ने अपनी रिपोर्ट में कहा कि सभी आश्रम में इन जगहों पर आने वाले पुरुषों और महिलाओं के लिए अलग अलग रजिस्टर रखा जाता है।