लखनऊ : कॉलेज में घुसकर छात्राओं से दिनदहाड़े छेड़खानी

0
260
छेड़खानी

लखनऊ : राजधानी लखनऊ में छात्राएं कहीं सुरक्षित नहीं हैं। तेलीबाग स्थित रामभरोसे मैकूलाल इंटर कॉलेज में शनिवार को ऐसी दुस्साहसिक घटना हुई, जब इंटरवल के दौरान तीन-चार युवक स्कूल परिसर में घुस गए और छात्रओं से छेड़छाड़ की। विरेाध पर चपरासी का सिर फोड़ दिया।

शोर सुनकर शिक्षकों व कर्मचारियों ने एक युवक को दबोच लिया, जबकि उसके दो साथी भाग निकले। स्कूल परिसर के ठीक बगल में तेलीबाग चौकी होने के बावजूद दो अन्य आरोपितों को पकड़ा नहीं जा सका।

कॉलेज के चपरासी वीरभान की ड्यूटी शनिवार को गेट पर थी। बताया गया कि सुबह करीब 10:45 बजे बाइक सवार तीन-चार युवक वहां पहुंचे और भीतर घुसकर छात्राओं से छेड़छाड़ करने लगे। आरोप है कि छींटाकशी कर रहे युवकों ने एक छात्रा का हाथ पकड़ने का प्रयास भी किया। इस पर छात्रा चीखते हुए प्रधानाचार्य के कमरे की ओर भागी।

उसका शोर सुनकर चपरासी वीरभान ने तीनों युवकों का विरोध किया। इस बीच अन्य कर्मचारी और शिक्षक भी आ गए। खुद को घिरता देख युवकों ने पथराव कर दिया, जिससे वीरभान लहूलुहान हो गए। घायल होने के बाद भी एक आरोपी को अन्य कर्मचारियों व शिक्षकों की मदद से पकड़ लिया गया।

आरोपित युवक ने अपना नाम गोसाईंगंज निवासी राजप्रताप सिंह बताया। उसने मौके से भाग निकले अपने साथियों के नाम तेलीबाग निवासी सलमान व गोलू बताए हैं। एसओ पीजीआइ बृजेश कुमार राय के अनुसार राजप्रताप गोसाईंगंज क्षेत्र के प्रधान बबलू सिंह का बेटा है।

कॉलेज में ही है चौकी-
जिस स्कूल में इतनी बड़ी घटना हुई, उसी के परिसर में तेलीबाग पुलिस चौकी भी खुली है। घायल चपरासी वीरभान ने बताया कि स्कूल गेट पर रोजाना युवकों का जमावड़ा लगता है। आरोपित युवक भी अक्सर गेट पर खड़े होते थे। पुलिस चौकी होने के बावजूद वहां कभी सख्ती नहीं की गई। पुलिस ने वक्त रहते ऐसे युवकों पर शिकंजा कसा होता, तो ऐसी घटना न होती।

पुलिस चौकी के बावजूद हो रहीं घटनाएं-
प्रधानाचार्य विमल साहू के अनुसार जिस समय घटना हुई, तब वह एक मीटिंग में शामिल होने केकेसी गए हुए थे। घटना बेहद निंदनीय है। चौकी होने के बाद भी ऐसी घटनाएं हो रही हैं। स्कूल के बाहर रोजाना अराजकतत्वों का जमावड़ा रहता है।

आए दिन घुस आते हैं बाहरी युवक-
शिक्षक आरबी सिंह बताते हैं कि आए दिन बाहरी युवक स्कूल के बाहर जमा रहते हैं। वे अंदर भी घुस आते हैं। पुलिस ऐसे अवांछित तत्वों पर शिकंजा नहीं कसती।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here