शिव के इन रूपों की उपासना करने से ‘मृत्यु’ भी होगी परास्त, आपकी हर एक इच्छा होगी पूरी

0
333
shiva

नई दिल्ली : भगवान शिव के अनेक रूप हैं। कोई उन्हें भोले भंडारी के नाम से जानता है तो कोई महाकाल के नाम से उनकी उपासना करता है। मगर ये बहुत कम लोगों को पता होगा कि शिव जी के जितने रूप हैं, उन रूपों की उपासना करने वालों के वरदान भी भिन्न-भिन्न हैं। इसकी मुख्य वजह ये है कि शिव के हर एक रूप हर एक अवतार से जुड़ी एक विचित्र कहानी भी है जिसका अपना अलग महत्व है।

आज हम आपको शिव के 6 ऐसे रूपों के बारे में अवगत कराने जा रहे हैं जिनकी उपासना करने के बाद आपको खुद भोले भंडारी मनवांछित वरदान प्रदान करेंगे।

पहला रूप – ‘महादेव’mahadev

इस रूप की कहानी काफी रोचक और सृष्टि के निर्माण से जुड़ी है। बताया जाता है कि सर्वप्रथम शिव ने ही सभी देवी-देवताओं को जन्म दिया। इसके बाद उन्होंने अपने ही अंश से शक्ति को भी जन्म दिया। इसके बाद सभी देवी-देवताओं ने सृष्टि का निर्माण किया। इस तरह से सभी देवी-देवताओं का सृजन करने की वजह से भगवान शिव को महादेव कहा जाता है। कहा जाता है जो महादेव का उपासना करता है वो एक साथ सभी देवी-देवताओं की भी पूजा करता है। जिसका फल भी भक्त को अवश्य मिलता है।खासकर सोमवार के दिन महादेव की उपासना करने से हर ग्रह काबू में रहता है।

दूसरा रूप – ‘आशुतोष’shiva

भगवान शिव अपने भक्तों पर बहुत जल्दी प्रसन्न हो जाते हैं। उनके इसी गुण की वजह से उन्हें आशुतोष कहा जाता है। शिव के आशुतोष रूप की उपासना करने से मानसिक तनाव और तकलीफें खत्म हो जाती हैं। आशुतोष रूप की उपासना करने का मन्त्र है -“ॐ आशुतोषाय नमः”

तीसरा रूप – ‘रूद्र’rudra

शिव के अतिक्रोध और संहाराक प्रवत्ति के चलते ही इनका एक रूप ‘रूद्र’ के नाम से भी जाना जाता है। उग्र अवतार में भक्त शिव के ‘रूद्र’ रूप की ही उपासना करते हैं। इस रूप की ये खासियत है कि संहार के बाद रोने पर मजबूर कर देता है। विनाश के बाद ही नवनिर्माण का विचार पनप पाता है। शिव का रूद्र रूप जीवन-दर्शन और मन में वैराग्य उत्पन्न कर देता है। रूद्र अवतार की उपासना करते हुए शिवलिंग पर जल चढ़ाते समय “ॐ नमो भगवते रुद्राय” मंत्र का जाप करना फलदायक सिद्ध होगा।

चौथा रूप – ‘नीलकंठ’neelkanth

समुद्र-मंथन के दौरान निकले विष को अपने कंठ में स्थापित करने की वजह से ही भगवान शिव का एक रूप ‘नीलकंठ’ माना गया है। नीलकंठ रूप की उपासना करने से शत्रु हमेशा दूर रहते हैं और बुरी शक्तियों का प्रभाव भी आप पर बिलकुल नहीं पड़ता है। सोमवार के दिन शिवलिंग पर गन्ने का रस चढ़ाकर नीलकंठ की पूजा की जाती है। नीलकंठ रुप की उपासना का मंत्र है – “ॐ नमो नीलकंठाय”

पांचवा रूप – ‘मृत्युंजय’shiva

शिव जी का ये रूप सबसे अधिक महत्वपूर्ण और फलदायी साबित होता है। इस रूप की उपासना करने से व्यक्ति मृत्यु को भी परास्त कर सकता है। इस रूप की पूजा से अकाल मृत्य से बचा जा सकता है। कहते हैं कि इस रूप ने भगवान शिव खुद कलश लेकर अपने भक्तों के प्राणों की रक्षा करते हैं। इस रूप की उपासना करने से व्यक्ति रोगों-कष्टों से बचा रहता है। इस रूप की उपासना करने का मंत्र “ॐ हौं जूं सः” है। इसके अलावा आप महामृत्युंजय मंत्र का जाप करके भी इस रूप की उपासना कर सकते हैं।

छटा रूप – ‘गौरीशंकर’neelkanth

इस रूप का आधार माता गौरी और शंकर का आपसी सुखद रिश्ता है। कहते हैं कि इस रूप की उपासना करने से व्यक्ति का विवाह बहुत जल्द संपन्न हो जाता है और जिसका विवाह हो चुका है उनका वैवाहिक जीवन हमेशा सुखद रहता है। इस रूप की पूजा करने का मन्त्र है “ॐ गौरीशंकराय नमः”

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here