बस में DU की छात्रा के बगल में बैठकर हस्तमैथुन करने वाले शख्स पर पुलिस ने रखा 25 हज़ार का ईनाम

0
167
Delhi University Student, DU, Sexual Molestation

नई दिल्ली,  दिल्ली पुलिस ने चलती बस में दिल्ली विश्वविद्यालय की एक छात्रा के बगल में बैठकर अश्लील हरकत करने वाले व्यक्ति पर 25 हजार रुपये का इनाम घोषित किया है। उसकी तलाश के मद्देनजर दिल्ली पुलिस ने घटना के कुछ दिन बाद इस संबंध में एक पोस्टर भी जारी किया है।

दिल्ली पुलिस की कई टीमें 10 दिन से उसकी तलाश में लगी हैं, इसके बावजूद उसका पता नहीं चल सका है। वहीं, दक्षिणी जिले की अतिरिक्त पुलिस उपायुक्त मोनिका भारद्वाज का कहना है कि आरोपित की गिरफ्तारी के लिए प्रयास किए जा रहे हैं।

दोबारा से पोस्टर लगाकर उसके बारे में बताने पर 25 हजार रुपये का इनाम घोषित किया गया है, जिससे कि आम लोग भी उसके बारे में जानकारी दें। दिल्ली-एनसीआर, उत्तर प्रदेश और हरियाणा सहित कई राज्यों में उसकी तलाश की जा रही है। इन राज्यों के सभी जिलों के पुलिस अधिकारियों को सूचित किया जा चुका है। जल्द ही उसे पकड़ लिया जाएगा।

पुलिस की तरफ से सिर्फ एक जवाब

ट्विटर पर वीडियो अपलोड करने और पुलिस अधिकारियों सहित अन्य को सूचित करने के बाद भी आरोपित को अभी गिरफ्तार नहीं किया जा सका है। पीड़ित छात्र का कहना है कि पुलिस की ओर से प्रतिदिन सिर्फ एक ही जवाब मिलता है कि उसकी की जा रही है। करीब 10 दिन बीत जाने के बाद भी पुलिस उसे नहीं पकड़ सकी है, इससे पुलिस की सक्रियता का पता चलता है।

दिल्ली पुलिस के इस पोस्टर में कहा है कि आरोपी व्यक्ति के बारे में सूचना देने वाले व्यक्ति को 25 हजार रुपये नकद इनाम दिया जाएगा। पुलिस ने यह भी कहा है कि सूचना देने वाले व्यक्ति की पहचान भी गोपनीय रखी जाएगी। बता दें कि छात्रा ने आरोपी व्यक्ति को अश्लील हरकत करते हुए उसकी वीडियो बना ली थी और अपने ट्विटर हैंडल से शेयर कर उसने बस के अंदर अपने साथ हुई गंदी हरकत के बारे में खुलासा किया था।

पीड़िता का आरोप है कि बीते 10 फरवरी को 6 घंटे इंतजार के बाद वसंत विहार थाने में आरोपी के खिलाफ केस दर्ज किया गया, लेकिन कोई गिरफ्तार नहीं हुआ है। तब से आरोपी भी फरार चल रहा है।

वहीं, हैरानी करने वाली बात यह है कि इस वीडियो को दिल्ली के मुख्यमंत्री कार्यालय, दिल्ली पुलिस, पुलिस आयुक्त, महिला आयोग को ट्विटर पर टैग किया गया था, लेकिन महिला आयोग के अलावा किसी अन्य ने पीड़िता से तीन दिनों तक संपर्क नहीं किया। महिला आयोग के हस्तक्षेप के बाद ही वसंत विहार थाने में मामला दर्ज किया गया।