मप्र: मंदसौर में 8 साल की बच्ची के साथ दरिंदगी की हद पार, लोगों का फूटा गुस्सा

0
13
Madhya Pradesh, Mandsaur, Minor Rape, Nirbhaya

मंदसौर : बीते दिनों बच्ची के साथ हुई दरिंदगी के बाद अब तक उसकी हालत गंभीर बनी हुई है। गंभीर हालत में बच्ची का इंदौर के एमवाय अस्पताल में इलाज चल रहा है। डॉक्टरों का कहना है कि अधिक खून बह जाने के कारण कुछ कहा नहीं जा सकता। वहीं, सीएम शिवराज ने इस घटना को दुख प्रकट किया है और मासूम को बेहतर इलाज दिलाने की बात कही है।

सीएम शिवराज ने जताया दुख

सीएम ने अपने ट्वीट में लिखा है कि ‘ऐसी दुखद घटना में वेदना ऐसी होती है कि संवेदना मर-सी जाती है। लेकिन, हम हर क़ीमत पर मानवता को ज़िंदा रखेंगे। हम हमारी बिटिया को दुनिया की सर्वश्रेष्ठ चिकित्सा दिलाएंगे। मैं और पूरा प्रदेश बिटिया के जल्दी ठीक होने के लिए लिए प्रार्थना कर रहे हैं।

मासूम के साथ हुई दरिंदगी
आरोपी ने मासूम के साथ दरिंदगी की सारी हदें पार कर दी थी। मासूम के जिस्म पर कई जगह दांत के काटने के निशान हैं और नाक पर भी गहरी चोट आई हुई है। डॉक्टरों के मुताबिक जब बच्ची को लाया गया था, तब उसके प्राइवेट पार्ट में गहरी चोट थी। नाक से खून आने और चोट गहरी होने के चलते नेसोगेस्ट्रिक ट्यूब का भी इस्तेमाल किया गया था।

ऑपरेशन कर काटी गई आंत
हालत में जब सुधार नहीं आया और प्राइवेट पार्ट से खून आना जब बंद नहीं हुआ तो डॉक्टरों की स्पेशल टीम ने ऑपरेशन कर बच्ची की आंत को काटा। आंतों को काटकर बाहर एक रास्ता बनाकर प्राइवेट पार्ट्स को ऑपरेट किया गया। जिसके बाद भी अब तक बच्ची की हालत गंभीर ही बनी हुई है।

क्या था पूरा घटना क्रम
गौरतलब है कि मंदसौर में बीते दिनों स्कूल की छुट्टी के बाद आरोपी ने बच्ची को मिठाई खिलाने का लालच दिया। जिसके बाद बच्ची उसके पीछे चली गई। जहां आरोपी ने एक खाली पड़े प्लॉट में बच्ची के साथ दरिंदगी की। जब उससे भी उसका मन नहीं भरा तो उसने उसे गंभीर रूप से घायल करके झाड़ियों में ही फेंक दिया। बच्ची के घर न पहुंचने पर परिजनों ने इसकी रिपोर्ट पुलिस में कराई थी। जहां पुलिस ने खोजबीन के दौरान बच्ची को घायल अवस्था में झाड़ियों में पाया था।

घटना के बाद से पूरा मंदसौर बंद
वहीं जब इसकी सूचना लोगों को लगी तो सैकड़ों लोग सड़क पर उतर आए। और आरोपी को फांसी दिलाने की मांग करने लगे। वहीं अधिवक्ताओं ने घटना को लेकर सभी वकीलों से अपील की। कि आरोपी का कोई भी केस न लड़े। साथ ही मामले की सुनवाई नार्मल कोर्ट में न होकर फास्ट ट्रैक कोर्ट में की जाए। लोगों के गुस्से को देखते हुए शहर में भारी पुलिस बल तैनात किया गया।

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here